चने की दो नई क़िस्मों से अब होगा किसानों का फायदा ही फायदा !

/media/tips/images/new-gram-crop.jpg

भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (ICAR) ने कृषि इनोवेटिव के लिए एक महत्वपूर्ण प्रसार में काले चने की दो नई किस्मों को अपनी स्वीकृति दे दी है, इन दोनो क़िस्मों को पहली 'कोटा देसी चना 2' तथा दूसरी को 'कोटा देसी चना 3' के नाम से जाना जाता है। चने की ये किस्में कोटा के अधीन कृषि विश्वविद्यालय की एक इकाई कृषि अनुसंधान स्टेशन, उम्मेदगंज (राजस्थान) द्वारा किए गए एक दशक लंबे शोध के बाद सामने आयी हैं।

नई किस्मों, RKGM (आरकेजीएम) 20-1 तथा आरकेजीएम 20-2, जिनके बारे में पहले आईसीएआर(ICAR) 2021-22 के कृषि उपज डाटा के अलग -अलग परीक्षणों में सबसे अच्छी चेक किस्म से 5 प्रतिशत से अधिक कृषि उपज देने की सूचना दी गई थी। इससे चने की खेती में क्रांति आने की उम्मीद की जा रही है। यह 126-132 दिनों की समान परिपक्वता समयाअवधि के अंदर उनकी उपज में सुधार हुआ। ये विशेष रूप से अच्छी वर्षा और सिंचाई वाले इलाक़ों के लिए अनुकूलित हैं, जो भारत के अलग -अलग राज्यों में चने की फसल की उत्पादकता को बढ़ाने में आशानुकूल है।

'कोटा देसी चना 2' तथा 'कोटा देसी चना 3' चने की ये किस्में हाज़िर चने की फसलों की तुलना में उच्च रोग-प्रतिरोधक क्षमता तथा उच्च उपज के अनुपात की पुष्टि करती हैं।

'कोटा देसी चना 2' की कृषि उपज प्रभावशाली 20.72 क्विंटल प्रति एक हेक्टेयर है, जो की हाल में व्यापक रूप से खेती की जाने वाली क़िस्म पूसा चना 4005 की औसत उपज 16-17 क्विंटल से अधिक है। चने की इस किस्म की विशेषता मध्यम-लंबे, अर्ध-खड़े प्रकाश पैदा करने वाले पौधे हैं। 18.77 प्रतिशत तक प्रोटीन सामग्री वाले भूरे बीज।

इसी बीच, 'कोटा देसी चना 3' भी पीछे नहीं है, इसकी औसत कृषि उपज 15.57 क्विंटल प्रति एक हेक्टेयर है। फसल की संरचना मशीनरी कटाई के लिए श्रेष्ठ है, और यह 20.25 प्रतिशत की प्रोटीन सामग्री के साथ सामने आती है।

ICAR की स्वीकृति के पश्चात, चने की इन किस्मों का शुरुआती प्रदर्शन शुरू होने वाला है, इसका मुख्य उद्देश्य भारतीय किसानों के मध्य वितरण के लिए बीज तैयार करना है। यह कदम 'बीजों की प्रोग्रामिंग' का एक हिस्सा है, जो जनेटिक संशोधन या पारंपरिक प्रजनन के माध्यम से विलक्षण कृषि स्थितियों के लिए बीज के गुणों को ओर बढ़ाने की एक विधि है।

Analyze Mandi Bhav

Today Mandi Bhav

View More Agriculture Tips

कसुरी मेथी क्या है, स्वास्थ्य के लिए इसका उपयोग

2.5 K

7 minutes ago

मल्चिंग तकनीक से खेती करने का फायदा

2.67 K

15 minutes ago

संतरे के फूल गिरने से केसे बचाए

1.34 K

42 minutes ago

मुझे अपनी मिर्च को कितना पानी देना चाहिए?

1.9 K

48 minutes ago

क्या किसानों के लिए गुजरात में कोई ट्रैक्टर लोन योजना है?

1.27 K

an hour ago

आधुनिक खेती , मॉडर्न फार्मिंग

785

an hour ago

पॉलीहाउस या ग्रीनहाउस क्या होता ? क्या इसकी खेती करना आसन होता है?

567

2 hours ago

लहसुन की खेती के लिए बीज दर एवं बुवाई का समय!

19.91 K

2 hours ago

बेकार पड़ी प्लास्टिक की बोतल में उगाए हरी प्याज!

11.43 K

2 hours ago

मिर्च की फसल में रस चूसक कीटों का नियंत्रण!

4.13 K

2 hours ago

टमाटर की फसल में फूल गिरने से ऐसे बचाये!

5.82 K

2 hours ago

क्या मिर्ची की फ़सल 2023 में लाभदायक है !!

685

4 hours ago

क्या खेती मे ड्रोन का उपयोज लाभकारी है ?

915

4 hours ago

प्याज में सल्फर का महत्व!

11.95 K

4 hours ago

दूध उत्पादन हेतु अजोला चारा

4.78 K

4 hours ago

मिर्च की फसल में फूलों की संख्या कैसे बढ़ाएं!

4.72 K

4 hours ago

डेयरी फार्म केसे शुरू करे

1.49 K

4 hours ago

वर्मीकम्पोस्ट कैसे बनता है?

922

4 hours ago

धनिया की फसल को पाले से केसे बचाएं!

11.16 K

4 hours ago

जामफल के बग़ीचे में खरपतवार की रोकथाम केसे करें

3.58 K

4 hours ago

भिंडी में फूलों की मात्रा ऐसे बढ़ाएं

4.52 K

4 hours ago

संतरा में अधिक उत्पादन के लिए

5.46 K

4 hours ago

प्याज में उर्वरक प्रबंधन

4.92 K

4 hours ago

क्या लहसुन का भाव ओर बड़ सकता है ?

2.12 K

4 hours ago

मूंगफली का उत्पादन कैसे बढ़ाएं?

20.26 K

4 hours ago

प्याज के कन्दों के विकास के लिए महत्वपूर्ण सलाह!

19.81 K

4 hours ago

अमेरिका की तर्ज पर खेती केसे करे ?

998

4 hours ago

सोयाबीन की फसल में तम्बाखू इल्ली का रोकथाम !

4.94 K

4 hours ago

सोयाबीन में पत्ती खाने वाली इल्ली का प्रबंधन!

3.31 K

4 hours ago

पुराने समय ओर आज के समय मे खेती करने मे कितना बदलाव आया है ?

1.54 K

4 hours ago